मास देयो कुत्तें गी दुआस जेहड़े रोआ दे न जोरैं ते फिरी दिक्खो हां जे ओह लड़दे न जां नेर्इं मती डाफी हैठे दे गी पलाओ र्इम्बली घोलियै ते फिरी दिक्खो हां जे त्रुटटा जां नेर्इं उसदा भन्न कांएं गी नीं होन देयो मुटेरा तां जे रौंहन सदा चकन्ने लालची लूंदियें कोला पर हिरखियें गी करन देयो हिरख रौंहन देयो उनें गी शान्त सुरगा च तुसैं बी∙ राहना लोड़चदा जरूर ते तौले गै ओह ³ूर³न जे राहगेयो उनें गी खरा मैं रौंह³ ताबेयादार छड़ी देयो मिगी खुल्ल मासा दियां बोटिटयां दितितयां हियां कुत्तें गी पर दिक्खो कोर्इ नेर्इ होर्इ लड़ार्इ पिअकड़े गी थ्होर्इ ही वोदका पर नेर्इं पीत्ता इक तोपा बी उनैं चकन्ने कां चकन्ने नेहे पर लूनिदयैं नीं कीत्ती गौर उन्दे मुटेरे होने दी हिरखियें दे बनार्इ दित्ते गे जोड़े पर ओह सारे होना चान्हदे न बक्खरा धरती गी राहेआ जा करदा ऐ पर सब बेकार कुतै कोर्इ ³ूर नीं फुटटेआ मिगी कल थ्होर्इ ही खुल्ल केह धरती पर मैं हूनां कोला करी सकना एह सब।
मोहन सिंह. अनुवाद, 2015